ShareThis

Thursday, November 1, 2012

5 Motivational Stories in Hindi !

Vote Now: 
If you are Hindi reader and love to read the motivational stories in Hindi. This blog has an opportunity for you. We have lots of hindi motivational stories here. Find below top 5 hindi stories, It doesn't impose you, but give you powerful thoughts

Win your mind first
मनुष्य के जीवन में पल-पल परिस्थितीयाँ बदलती रहती है। जीवन में सफलता-असफलता, हानि-लाभ, जय-पराजय के अवसर मौसम के समान है, कभी कुछ स्थिर नहीं रहता। जिस तरह ‘इंद्रधनुष के बनने के लिये बारिश और धूप दोनों की जरूरत होती है उसी तरह एक पूर्ण व्यक्ति बनने के लिए हमें भी जीवन के खट्टे-मीठे अनुभवों से होकर गुजरना पड़ता है।‘ ।हमारे जीवन में  सुख भी है दुःख भी है, अच्छाई भी है बुराई भी है।......Read complete hindi story here


सच्चा धर्म
एक बार इब्राहिम एक काफिले के साथ तीर्थयात्रा पर जा रही थे | काफिले में दर्जनों यात्री थे | बीच रास्ते में काफिले से एक अनजान व्यक्ति बीमार पड़ गया | इब्राहीम उसे जानते नही थे परन्तु उसे बीमार देख कर तत्काल उसकी सेवा में जुट गए | इब्राहीम के पास तीर्थयात्रा के लिए जीतनी रकम थी वह उस व्यक्ति के इलाज में खर्च हो गयी फिर वो व्यक्ति ठीक नही हुआ | उसकी हालत ख़राब होती गयी और वो एक दिन बेहोश हो गया..Read complete hindi story here 
अन्धविश्वास या कुछ ओर 

एक बार एक महात्माजी अपने कुछ शिष्यों के साथ जंगल में आश्रम बनाकर रहते थें, एक दिन कहीं से एक बिल्ली का बच्चा रास्ता भटककर आश्रम में आ गया । महात्माजी ने उस भूखे प्यासे बिल्ली के बच्चे को दूध-रोटी महात्मा जी की बिल्ली  खिलाया । वह बच्चा वहीं आश्रम में रहकर पलने लगा। लेकिन उसके आने के बाद महात्माजी को एक समस्या उत्पन्न हो गयी कि जब वे सायं ध्यान में बैठते तो वह बच्चा कभी उनकी गोद में चढ़ जाता, कभी कन्धे या सिर पर बैठ जाता । तो महात्माजी ने अपने एक शिष्य को बुलाकर कहा देखो  !,,,Read complete hindi story here
 
Monk, Fox and Tiger
एक  बौद्ध भिक्षुक भोजन  बनाने  के  लिए  जंगल  से  लकड़ियाँ  चुन  रहा  था कि  तभी  उसने  कुछ अनोखा   देखा ,“कितना अजीब है ये  !”, उसने   बिना  पैरों  की  लोमड़ी  को  देखते  हुए  मन  ही  मन   सोचा . “ आखिर  इस  हालत  में  ये  जिंदा  कैसे  है ?” उसे  आशचर्य  हुआ , “ और  ऊपर  से  ये  बिलकुल   स्वस्थ  है ”....




Read complete hindi story here


मैं यही हूँ 
एक  आदमी हमेशा  की  तरह  अपने   नाई  की  दूकान  पर  बाल  कटवाने  गया . बाल  कटाते  वक़्त  अक्सर  देश-दुनिया   की  बातें  हुआ करती थीं  ….आज  भी  वे  सिनेमा , राजनीति ,  और  खेल जगत ,  इत्यादि  के  बारे  में  बात  कर  रहे  थे  कि  अचानक   भगवान्  के  अस्तित्व  को  लेकर  बात  होने  लगी . नाई  ने  कहा , “ देखिये भैया ,  आपकी  तरह  मैं  भगवान्  के  अस्तित्व  में  यकीन  नहीं  रखता .”“ तुम  ऐसा  क्यों  कहते  हो ?”, आदमी  ने  पूछा .......... Read complete hindi story here
 


Reader's Choice